मानव संसाधन विकास

मानव संसाधन विकास शाखा की वेबसाईट हेतु क्लिक करें ।

परिचय :


वन विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के कौशल उन्‍नयन एवं क्षमता वृद्धि के उद्देश्‍य से वर्ष 1997-98 में प्रधान मुख्‍य वन संरक्षक, मध्‍य प्रदेश, भोपाल के कार्यालय में मानव संसाधन विकाश शाखा गठित किया गया।

मानव संसाधन विकास शाखा मध्‍य प्रदेश के 09 वन विद्यालयों में वन क्षेत्रपालों, वनपालों एवं वन रक्षकों के नियमित प्रशिक्षण कार्यक्रमों के अतिरिक्‍त समय-समय पर रिफ्रेशर प्रशिक्षण कार्यक्रमों का आयोजन भी करता है। इसके अतिरिक्‍त प्रदेश के बाहर के अन्‍य प्रशिक्षण संस्‍थाओं से सम्‍पर्क कर विभाग के विभिन्‍न स्‍तर के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिये कौशल उन्‍नयन प्रशिक्षण भी लगातार कर रहा है। प्रशिक्षण के उच्‍च मापदण्‍डों को ध्‍यान में रखते हुये एवं वर्तमान में आधुनिक तकनीकों का अनुसरण करते हुये प्रशिक्षण कार्यक्रमों को बहुआयामी बनाने पर विशेष ध्‍यान दिया जा रहा है। मानव संसाधन विकास शाखा वन क्षेत्रपालों एवं सहायक संरक्षकों की विभागीय परीक्षा कार्यक्रम भी सम्‍पन्‍न करता है।

मानव संसाधन विकास शाखा में पदस्थ अधिकारी :


क्र. अधिकारी का नाम पद
1. डॉ. यू. प्रकाशम प्रधान मुख्य वन संरक्षक, (अनुसंधान एवं प्रशिक्षण)
2. श्री महेंद्र यादुवेंदु अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक, (मानव संसाधन विकास)
3. श्री मनोज अग्रवाल, भा.व.से. मुख्य वन संरक्षक, (मा.सं.वि. का अतिरिक्त प्रभार)

मानव संसाधन विकास शाखा की मुख्य गतिविधियॉं :


  • प्रदेश में सीधी भर्ती के वन रक्षकों एवं सेवारत वनपालों के लिये निर्धारित प्रशिक्षण कार्यक्रमों को 09 वन विद्यालयों में संचालित करना,
  • प्रदेश में पदोन्‍नत वन क्षेत्रपालों के लिये निर्धारित 06 मास के कार्यक्रमों को वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय, बालाघाट में संचालित करना।
  • प्रदेश में सीधी भर्ती के सहायक वन संरक्षकों एवं वन क्षेत्रपालों के लिये भर्ती के समय निर्धारित प्रशिक्षण का आयोजन निदेशक, वन शिक्षा निदेशालय, भारत सरकार, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, देहरादून से समन्‍वय कर देश के विभिन्‍न वन अकादमियों एवं वन क्षेत्रपाल महाविद्यालयों में कराना,
  • विभाग में कार्यरत विभिन्‍न स्‍तर के अधिकारियों, मैदानी कर्मचारियों तथा लिपिकीय कर्मचारियों के कौशल उन्‍नयन के लिये राज्‍य की विभिन्‍न प्रशिक्षण संस्‍थानों में विभिन्‍न विषयों पर प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करना,
  • प्रदेश में कार्यरत् भारतीय वन सेवा के अधिकारियों के लिये भारत सरकार, पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा आयोजित अनिवार्य तथा मिड कॅरियर प्रशिक्षणों का समन्‍वय करना।
  • वन क्षेत्रपाल से लेकर अपर प्रधान मुख्‍य वन संरक्षक तक के अधिकारियों को सामयिक एवं तकनीकी विषयों पर प्रदेश एवं प्रदेश के बाहर की संस्‍थाओं में आयोजित अल्‍पकालिक कार्यशाला/प्रशिक्षणों में भेजना।
  • प्रदेश के 01 वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय एवं 08 वन विद्यालयों में प्रशिक्षण हेतु आवश्‍यक व्‍यवस्‍था सुनिश्चित करना,
  • प्रदेश में स्‍थापित एड्यूसेट सुविधाओं के माध्‍यम से मैदानी अमले एवं वन विद्यालयों के प्रशिक्षणार्थियों के लिये प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित करना,
  • दैनिक वेतन भोगियों से सम्‍बन्धित कार्य सम्‍पादित करना।

प्रदेश के वन प्रशिक्षण संस्थान :


प्रदेश में निम्नानुसार 01 वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय एवं 08 वन विद्यालय हैं ‌:‌ -
वन विद्यालय कर्मचारी जिन्हें प्रशिक्षण दिया जाता है सीट संख्या (वन रक्षक) सीट संख्या (वनपाल) सीट संख्या (पदोन्नत वन क्षेत्रपाल)
वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय, बालाघाट वनरक्षक, वनपाल एवं पदोन्नत वनक्षेत्रपाल 100 25 50
वन विद्यालय, बैतूल वनरक्षक एवं वनपाल 100 25 -
वन विद्यालय, अमरकंटक (जिला - अनुपपुर) वनरक्षक एवं वनपाल 100 25 -
वन विद्यालय, शिवपुरी वनरक्षक एवं वनपाल 100 25 -
राजीव गांधी सहभागी वानिकी प्रशिक्षण संस्‍थान, लखनादौन (जिला – सिवनी) वनरक्षक एवं वनपाल 100 25 -
वन विद्यालय, गोविन्‍दगढ़ (जिला – रीवा) वनरक्षक एवं वनपाल 50 25 -
इंदिया गांधी वन प्रशिक्षण शाला, पचमढ़ी (जिला – होशंगाबाद) वनरक्षक 50 - -
वन विद्यालय, झाबुआ वनरक्षक 80 - -
जैव विविधता प्रशिक्षण केन्‍द्र, ताला (जिला – उमरिया) वनरक्षक 50 - -

वन विद्यालयों में आयोजित नियमित प्रशिक्षण कार्यक्रम :


  • सीधी भर्ती के वन रक्षकों का 6 माह का प्रारंभिक प्रशिक्षण कार्यक्रम :

प्रदेश के 01 वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय एवं 08 वन विद्यालयों में सीधी भर्ती के वन रक्षकों के लिये 6 माह के प्रारंभिक प्रशिक्षण कार्यक्रम नियमित रूप से संचालित किये जा रहे हैं। इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के अन्‍तर्गत विभिन्‍न वानिकी विषयों एवं अन्‍य विषयों–कम्‍प्‍यूटर कार्य, अनुशासन, नेतृत्‍व कौशल, संवाल कौशल पर व्‍याख्‍यान एवं व्‍यवहारिक/प्रायोगिक प्रशिक्षण आयोजित होते हैं। इसके अतिरिक्‍त मध्‍य प्रदेश के विभिन्‍न वनमण्‍डलों/राष्‍ट्रीय उद्यानों के वनों एवं वन्‍यप्राणी पर्यावास स्‍थलों एवं उनमें चल रहे विभिन्‍न वानिकी एवं अन्‍य कार्यों का अध्‍ययन करने बावत् 15 दिवसीय अध्‍ययन प्रवास पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आयोजित होता है। प्रशिक्षण के दौरान प्रतिदिन पी.टी. एवं खेलकूद आयोजित किये जाते हैं। वन रक्षकों को पुलिस लाईन में शस्‍त्र अभ्‍यास का व्‍यवहारिक प्रशिक्षण दिया जाता है। इसके अतिरिक्‍त प्रारंभिक उपचार का भी व्‍यवहारिक प्रशिक्षण दिया जाता है। वन विद्यालयों में सांस्‍कृतिक कार्यक्रम एवं खेलकूद प्रतियोगिता आयोजित होती है। प्रशिक्षण के अंत में संबंधित विषयों की परीक्षा आयोजित की जाती है।

  • सेवारत वनपालों का 45 दिवसीय कौशल उन्‍नयन प्रशिक्षण कार्यक्रम :

वर्तमान में प्रदेश के 01 वनक्षेत्रपाल महाविद्यालय, बालाघाट एवं 05 वन विद्यालयों, क्रमश: वन विद्यालय बैतूल, वन विद्यालय अमरकंटक, वन विद्यालय शिवपुरी, राजीव गांधी सहभागी वानिकी प्रशिक्षण संस्‍थान, लखनादौन एवं वन विद्यालय गोविन्‍दगढ़ में वनपालों के लिये 45 दिवसीय प्रारंभिक प्रशिक्षण कार्यक्रम नियमित रूप से संचालित किये जा रहे हैं। इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों के अन्‍तर्गत वानिकी कार्यों से संबंधित महत्‍वपूर्ण एवं व्‍यवहारिक विषयों का प्रशिक्षण व्‍याख्‍यानों एवं अन्‍य माध्‍यम से दिया जाता है। इसके अतिरिक्‍त सूचना प्रौद्योगिकी जिसमें कम्‍प्‍यूटर कार्य इत्‍यादि सम्मिलित है, के बारे में भी व्‍यवहारिक ज्ञान दिया जाता है। साथ ही शासकीय विभागों/अशासकीय संस्‍थानों से समन्वय, जनता एवं जन प्रतिनिधियों के प्रति संवेदनशीलता विषयों पर भी व्‍यवहारिक प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रशिक्षण के दौरान प्रतिदिन पी.टी. एवं खेलकूद आयोजित किये जाते हैं।

अनुशासन, नेतृत्‍व कौशल, संवाद कौशल पर व्‍याख्‍यान एवं व्‍यवहारिक/प्रायोगिक प्रशिक्षण आयोजित होते हैं। इसके अतिरिक्‍त मध्‍य प्रदेश के विभिन्‍न वनमण्‍डलों/राष्‍ट्रीय उद्यानों के वनों एवं वन्‍यप्राणी पर्यावास स्‍थलों एवं उनमें चल रहे विभिन्‍न वानिकी एवं अन्‍य कार्यों का अध्‍ययन करने बावत् 15 दिवसीय अध्‍ययन प्रवास पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आयोजित होता है। वन रक्षकों को पुलिस लाईन में शस्‍त्र अभ्‍यास का व्‍यवहारिक प्रशिक्षण दिया जाता है।

  • सेवारत पदोन्‍नत वन क्षेत्रपालों का 6 माह का प्रशिक्षण कार्यक्रम :

वर्तमान में वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय, बालाघाट में पदोन्‍नत वन क्षेत्रपालों के लिये 6 माह का अनिवार्य प्रशिक्षण आयोजित किया जा रहा है। इसके अंतर्गत प्रथम चरण में 15 दिवस की अवधि में पदोन्‍नत वन क्षेत्रपाल बालाघाट स्थित वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय में प्रशिक्षण प्राप्‍त करते हैं। इस प्रथम सत्र की समाप्ति पर प्रत्‍येक पदोन्‍नत वन क्षेत्रपाल को एक विस्‍तृत प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार करने के लिये वानिकी संबंधी विषय आवंटित किया जाता है। प्रशिक्षण कार्यक्रम की आगामी अवधि में पदोन्‍नत वन क्षेत्रपाल अपनी मूल पदस्थिति के वनमण्‍डलों में कार्य करते हुये क्षेत्रीय प्रशिक्षण प्राप्‍त करते हैं एवं साथ ही उनको आवंटित विषयों पर प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट तैयार करते हैं। इसके बाद प्रशिक्षण के अंतिम चरण में 15 दिवस की अवधि में वन क्षेत्रपाल महाविद्यालय, बालाघाट में पुन: उपस्थित होकर प्रशिक्षण प्राप्‍त करते हैं एवं इस दौरान उनके द्वारा अपने प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट के संबंध में प्रस्‍तुतीकरण किया जाता है।

  • सीधी भर्ती के वन क्षेत्रपालों का 18 माह का प्रशिक्षण कार्यक्रम :

वर्तमान में प्रदेश में सीधी भर्ती के वन क्षेत्रपालों के लिए भर्ती के समय 18 माह के प्रशिक्षण कार्यक्रम हेतु निदेशक, वन शिक्षा निदेशालय, भारत सरकार, पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, देहरादून द्वारा देश के हल्‍द्वानी (उत्‍तराखण्‍ड राज्‍य), बर्नीहाट (असम राज्‍य), कोयम्‍बटूर (तमिलनाडू राज्‍य), दुलापल्‍ली (हैदराबाद राज्‍य) में स्थित वन क्षेत्रपाल महाविद्यालयों/वन अकादमियों में सीटें आवंटित की जाती हैं, जिसके अनुसार ही इनमें सीधी भर्ती के वन क्षेत्रपालों 18 माह के प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित होते हैं।

  • सीधी भर्ती के सहायक वन संरक्षकों का 2 वर्ष का प्रशिक्षण कार्यक्रम :

वर्तमान में प्रदेश में सीधी भर्ती के सहायक वन संरक्षकों के लिए भर्ती के समय 2 वर्ष के प्रशिक्षण कार्यक्रम हेतु निदेशक, वन शिक्षा निदेशालय, भारत सरकार, पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, देहरादून द्वारा केन्‍द्रीय अकादमी राज्‍य वन सेवा, बर्नीहाट (असम राज्‍य) एवं केन्‍दीय अकादमी राज्‍य वन सेवा कोयम्‍बटूर (तमिलनाडू राज्‍य) में सीटें आवंटित की जाती हैं, जिसके अनुसार ही इनमें सीधी भर्ती के सहायक वन संरक्षकों के 2 वर्ष के प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित होते हैं।

सेवारत अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिये विभिन्न प्रशिक्षण संस्थानों में विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षण कार्यक्रम :


मानव संसाधन विकास शाखा वन विभाग में कार्यरत्‍ अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिये मध्‍य प्रदेश एवं देश के विभिन्‍न प्रशिक्षण संस्‍थानों में विभिन्‍न सामयिक एवं तकनीकी विषयों पर प्रशिक्षण का आयोजन करता है। यह प्रशिक्षण वर्तमान में निम्‍न संस्‍थाओं में आयोजित कराये जा रहे हैं :-

  • आर.सी.वी.पी. नरोन्‍हा प्रशासन अकादमी, भोपाल
  • भारतीय वन प्रबंध संस्‍थान, भोपाल
  • उद्यमिता विकास केन्‍द्र, भोपाल
  • आदिमजाति अनुसंधान एवं विस्‍तार केन्‍द्र, भोपाल
  • केन्‍द्रीय जल एवं मृदा संरक्षण संस्‍थान, देहरादून
  • भारतीय वन्‍यजीव संस्‍थान, देहरादून
  • भारतीय वन अनुसंधान संस्‍थान, देहरादून

वन विद्यालय में पदस्थ अधिकारियों की सूची :


क्र. वन विद्यालय  अधिकारी पदनाम मोबाईल नं. दूरभाष क्रमांक
1. वनक्षेत्रपाल महाविद्यालय, बालाघाट श्री धीरेंद्र भार्गव, मुख्य वन संरक्षक प्राचार्य 9424790100 07632-240149
श्री ए.के.भोंयर, स.व.सं. सहायक अनुदेशक 9875524375  
श्री श्याम सर      
2. वन विद्यालय, बैतूल (जायका) श्री एन.के.दोहरे, स.व.सं. संचालक 9424796459 07141-234386
श्री जी.पी. गुदावे, स.व.सं. अनुदेशक 9424796460  
श्री सेवक मंडलोई, वनक्षेत्रपाल सहायक अनुदेशक 9752149144  
श्री एल.पी. शुक्ला, वनक्षेत्रपाल सहायक अनुदेशक 9424637587  
श्री अनिल क्षत्रिय, वनक्षेत्रपाल सहायक अनुदेशक 9669420098  
3. वन विद्यालय, अमरकंटक (जिला - अनुपपुर) (जायका) श्री ओ.जी. गोस्वामी, स.व.सं. अनुदेशक (संचालक) 9425181566 07629-269342
श्री कलुआ कुमार, वनक्षेत्रपाल सहायक अनुदेशक    
सुश्री स्वाती पाठक, वनक्षेत्रपाल   8889548886  
4. वन विद्यालय, शिवपुरी श्री पारधे, वनमंडलाधिकारी संचालक 9424796574 07492-223610
श्री टी.एस. उइके सहायक अनुदेशक 9425483620  
5. राजीव गांधी सहभागी वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, लखनादौन (जिला - सिवनी) श्री गौरव चौधरी, वनमंडलाधिकारी संचालक 9424796535 07690-240601
श्रीमति कल्पना तिवारी, स.व.सं. अनुदेशक 9424796535  
श्रीमति उर्मिला मरकाम अनुदेशक 7803932297  
6. इंदिरा गांधी वन प्रशिक्षण शाला, पचमढी (जिला - होशंगाबाद) श्री एन.एस. बघेल, स.व.सं. अनुदेशक

9424792122

9617346378

07574-254394
श्री विलास डोंगरे, वनक्षेत्रपाल सहायक अनुदेशक    
श्री सुरेश गोस्वामी, वनक्षेत्रपाल सहायक अनुदेशक 9424792106  
श्री शर्मा      
7. वन विद्यालय, गोविंदगढ (जिला - रीवा) श्री एस.एल. साकेत अनुदेशक 9424701606 07662-261653
श्री आई.एस. गडरिया स.व.सं. अनुदेशक    
8. वन विद्यालय, झाबुआ श्री राजेश खरे, वनमंडलाधिकारी संचालक 9424792425 07392-244542
श्री बी.एस. निगम, स.व.सं. अनुदेशक 9425822254  
श्री कैलश भटकारे, स.व.सं.      
9. जैव विविधता प्रशिक्षण केंद्र, ताला (जिला - उमरिया) श्री के.के. खरे अनुदेशक 9424794319 07672-265352
श्री के.बी. सिंह सहायक अनुदेशक    

मानव संसाधन विकास शाखा का पता, दूरभाष एवं ई-मेल :


  • पता : कार्यालय प्रधान मुख्‍य वन संरक्षक (मानव संसाधन विकास शाखा), प्रथम तल, सतपुड़ा भवन, भोपाल (पिन कोड – 462004), मध्‍य प्रदेश
  • दूरभाष : 0755 – 2674232, 2674270 (कार्यालय), 0755 – 2573770 (फैक्‍स)
  • ई - मेल : apccfhrd@mp.gov.in; ccfhrd@mp.gov.in

वन विद्यालय :


वन विद्यालय संबंधी जानकारी हेतु क्लिक करें ।

अन्य :


संयुक्त वन प्रबंधन हैंडबुक (फरवरी - 2015) डाउनलोड 4.67MB
संयुक्त वन प्रबंधन हैंडबुक (फरवरी - 2015) - अंग्रेजी में डाउनलोड 22.46MB
संयुक्त वन प्रबंधन पुस्तिका (ब्रॉसर) डाउनलोड 852KB
मध्यप्रदेश में वन विद्यालय डाउनलोड 114KB
भूमिका निर्वहन डाउनलोड 3.77MB

संपर्क करें
  • कार्यालय अ.प्र.मु.व.सं. (कक्ष-सूचना प्रौद्योगिकी),आधार- तल खंड ‘डी’, सतपुडा भवन, भोपाल- 462004
  • दूरभाष : +91 (0755) 2674302
  • फैक्स: +91 0755-2555480